Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

January 11, 2018

तेरी याद कभी-कभी मुस्कान देती है!
तेरी याद कभी-कभी तूफान देती है!
टूटी हुई चाहत भी जुड़ जाती है कभी,
कभी-कभी हर आलम सूनसान देती है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Share this:
Author
MITHILESH RAI
#महादेव
Recommended for you