मुक्तक

जो चरागों से रौशन दुआरे रहे
वो हमारे नहीं वो तुम्हारे रहे
जिनके चहरे पे चहरों का था आवरण
वो ज़माने में अक्सर सितारे रहे

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share