Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

December 7, 2017

हवा सर्दियों की पैगामे-गम ले आती है!
वक्ते-तन्हाई में तेरा सितम ले आती है!
तूफान नजर आता है अश्कों में यादों का,
तेरी चाहत को पलकों में नम ले आती है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Share this:
Author
MITHILESH RAI
From: वाराणसी
#महादेव
Recommended for you