मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

गांठ दिल की तुम कहो तो खोल दूं
देख ली दुनिया बहुत क्या मोल दूं
बेमतलब तो प्यार भी होता नहीं
सीख ली है ये रवायत बोल दूं

1 Like · 70 Views
Like
51 Posts · 2.5k Views
You may also like:
Loading...