Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

November 30, 2017

यादों की राह में सवाल आ जाता है!
तेरी रुसवाई का ख्याल आ जाता है!
जब भी ख्वाब आते हैं मेरी आँखों में,
तेरी जुदाई का मलाल आ जाता है!

मुक्तककार – #मिथिलेश_राय

Share this:
Author
MITHILESH RAI
#महादेव
Recommended for you