Jul 19, 2016 · मुक्तक

मुक्तक

आज गुरु पूर्णिमा है

दुर्दिनों के दौर में कमाल होगया ।

रज चरण चूम ली वो मालामाल होगया ।

भव पार उतरना है तो चरणों में आइये

जो आगया शरण में वो निहाल हो गया ।

अनिल उपहार

15 Views
I am a hindi poet and fine geetkar and anchor and government employe. rnI came...
You may also like: