मुक्तक

आज गुरु पूर्णिमा है

दुर्दिनों के दौर में कमाल होगया ।

रज चरण चूम ली वो मालामाल होगया ।

भव पार उतरना है तो चरणों में आइये

जो आगया शरण में वो निहाल हो गया ।

अनिल उपहार

Like Comment 0
Views 15

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share