23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

**** मुक्तक ****

**** मुक्तक ****

माँ की कृपा की छाया बस , सबके ऊपर बनी रहे ;
मधुर प्यार-स्नेह की वर्षा ,सदा सभी पर बनी रहे ;
जो भी कष्ट हो जीवन में,सभी का माँ विनाश करो ;
आनंद,खुशहाली की लौ , सबके घर-पर जगी रहे।,,,,, [१]

शक्ति पुंज बन कर हम भी ,शक्ति का अनुष्ठान करें ;
आदि-शक्ति के चरणों में , शीश झुका सम्मान करे ;
ले उस शक्ति माँ से शक्ति ,करते रहें जग हित सदा ;
उसकी कृपा दृष्टि से तो , हर कोई उत्थान करें । ,,,,,[२]

*****सुरेशपाल वर्मा जसाला

11 Views
Sureshpal Jasala
Sureshpal Jasala
18 Posts · 6.9k Views
I am a teacher, poet n writer, published 8 books , started a new Hindi...
You may also like: