.
Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

October 12, 2017

तेरी उम्र तन्हाई में गुजर न जाए कहीं!
तेरी जिन्दगी अश्कों में बिखर न जाए कहीं!
क्यों इसकदर मगरूर हो तुम अपने हुस्न पर?
कोई गम कभी दामन में उतर न जाए कहीं!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Author
MITHILESH RAI
Recommended Posts
II  डगर आसान हो जाए  II
सफर में बच के तू रहना कहीं ना रात हो जाए l तेरी जो दौलते असबाब ही जंजाल हो जाए ll ठिकाना ढूंढना अपना समय... Read more
??◆उसके दर पर जो आया◆??
अ मालिक तेरी दया,हमपर ज़रा-सी हो जाए। हो उजाला ज्ञान का,ग़म का अँधेरा खो जाए।। सहमे-सहमे से हैं हम,थके-थके-से हैं क़दम। ग़म की घटाएँ हैं... Read more
गीत- टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं
गीत- टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं ★★★★★★★★★★★★★★★ जिन्दगी के लिए सिलसिला ये कहीं, टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं। ★★★ कर्म से ही यहाँ... Read more
शाम न हो जाए...
आ लौट चले बसेरे पर अपने सुर्ख शाम न हो जाए! उन्नींदी आँखों में तेरी परछाई फिर आम न हो जाए! . जाना है दूर... Read more