मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

मैं तेरी तमन्ना को छोड़कर आया हूँ!
मैं दर्द की बंदिश को तोड़कर आया हूँ!
मैं भूल गया हूँ मंजिलें राह-ए-इश्क की,
अश्कों के तूफान को मोड़कर आया हूँ!

मुक्तककार – #मिथिलेश_राय

46 Views
Like
502 Posts · 20.4k Views
You may also like:
Loading...