मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

मेरी यादें ही तेरा हिसाब हैं,
बहे जो आँसू तेरे वो ख़्वाब हैं
हर शर्त तेरी मंज़ूर हैं बेदर्दी
दी थी जो गुलाब सूख गये हैं

60 Views
Like
Author
कवि कृष्णा बेदर्दी ( डॉक्टर ) जन्मतिथि-०७ जुलाई जन्मस्थान- मधुराई(तमिलनाडु) शिक्षा मैट्रिक -विलेपार्ले(मुम्बई) शिक्षा मेडिकल- B.A.M.S.(लन्दन) प्रकाशित पुस्तक- हिन्दी_हमराही,अनुभूति,महक मुसाफिर, हिन्दी-तेलुगू फिल्मों में गीतकार शौक_ डांस,अभिनय,गिटार,लेखन, नम्बर- +918319898597 Email I'd…
You may also like:
Loading...