रंगो भीगे

रंगो भीगे अंग, हिय में उमंग , मारे पिचकारियाँ
इत भागो उत भागो रंग डारो,बालक भरें किलकारियाँ
मिले सब गले,मिटा दिये शिकवे गिले,गुजिया खिलायें
होली पे सदा खिलें प्यार मनुहार सद्भाव की क्यारियाँ

1 Comment · 7 Views
poet and story writer
You may also like: