Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

September 10, 2017

शामें-गम को तेरे नाम मैं करता हूँ!
दर्दे-तन्हाई को सलाम मैं करता हूँ!
शौक अभी जिन्दा है खुद को जलाने का,
बस यही शामों-सहर काम मैं करता हूँ!

मुक्तककार-#मिथिलेश_राय

Share this:
Author
MITHILESH RAI
#महादेव
Recommended for you