23.7k Members 49.8k Posts

मुक्तक

गमों को दिल में छुपाना आसान नहीं है!
शमा यादों की बुझाना आसान नहीं है!
जब भी छूट जाते हैं हमसफर राहों में,
अकेले लौट कर आना आसान नहीं है!

मुक्तककार-#मिथिलेश_राय

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
MITHILESH RAI
MITHILESH RAI
वाराणसी
502 Posts · 4.5k Views
Books: आगमन संदल सुगंध जीवंत हस्ताक्षर #मिथिलेश_राय_की_मुक्तक_रचनाऐं सफ़रनामा मधुबन(काव्य संग्रह) मधुशाला(काव्य संग्रह) अनुभूति (काव्य संग्रह)...