मुक्तक · Reading time: 1 minute

मजधार मे नैया (मुक्तक)

********* मुक्तक *********
——————————————
जलमग्न हैं धराये विकल जिन्दगी है
आई ये कैसी प्रभु मुश्किल घड़ी है,
कहाँ कोई जाये अब आसरा है किसका
तुम्हीं हो सहारा विकट परिस्थिति है।

हरो नाथ मुश्किल करो पार बेड़ा
विपदा जो आई सहारा अब तेरा,
अब ना प्रभुजी चित्त से उतारो
हरो स्वामी विपदा करो पार बेड़ा।।

मजधार में है अब जीवन की नैया
तुम्ही हो सहारा तुम्ही हो खेवईया,
नहीं कोई दुजा अब दिखता है भगवन
दुखियों के दुख को हरो तुम कन्हैया।।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
960335952
16/8/2017

42 Views
Like
You may also like:
Loading...