.
Skip to content

प्रीत

Sharda Madra

Sharda Madra

मुक्तक

June 24, 2016

तेरी प्रीत ने हमें दीवाना बना दिया
रीते दिल को देखो महखाना बना दिया
मदहोश हुए प्यार की मय पीने के बाद
जलती हुई शमा का परवाना बना दिया।

Author
Sharda Madra
poet and story writer
Recommended Posts
नारी का अपमान न हो, वो सुहाग बना
पदांत- बना समांत- आग जीवन का उत्कर्ष, प्रेम और त्याग बना. सर्वधर्म समभाव सब से, अनुराग बना. मोह, माया, मत्सर से, नहिं हो, तू प्रेरित,... Read more
मन मथुरा तन वृन्दावन
?मन मथुरा,तन वृन्दावन? मन मथुरा बना ले कान्हा को फिर बुला ले मोह बंधन की बेड़ी रे झट कट जायेगी| गले गोकुल सजा ले कान्हा... Read more
मुक्तक
मुक्तक सजा कर प्रीत के सपने लिए तस्वीर बैठे हैं। इबादत में सनम तुझको बना तकदीर बैठे हैं। छलावा कर रही दुनिया यहाँ जज़्बात झूठे... Read more
*प्रेम रत्न बना दूँ*
*प्रेम रत्न बना दूँ* आ बाहों का हार पहना दूँ, तुझको अपनी प्रीत बता दूँ।। लगजा आज गले से मेरे, धड़कन का संगीत सुना दूँ।।... Read more