मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

हर शाम मुझे तेरी कमी महसूस होती है!
अपनी हर धड़कन में नमी महसूस होती है!
डगमगाता हूँ जब भी मैं जाम की महफिल में,
हरतरफ़ जख्मों की जमीं महसूस होती है!

#महादेव_की_मुक्तक_रचनाऐं’

36 Views
Like
502 Posts · 20.4k Views
You may also like:
Loading...