.
Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

July 15, 2017

जिन्दगी मिलती नहीं किसी को सस्ती बनकर!
कोई तन्हा है कहीं कोई हस्ती बनकर!
नेकियाँ करते चलो तुम भी कुछ जमाने में,
जिन्दगी जी लो तुम राहों में मस्ती बनकर!

मुक्तककार-#मिथिलेश_राय

Author
MITHILESH RAI
Recommended Posts
मुक्तक
तुम मेरी जिन्दगी की तस्वीर हो! तुम मेरी मंजिलों की तकदीर हो! तेरी हर अदा है मेरे ख्याल में, तुम मेरी चाहतों की जागीर हो!... Read more
मुक्तक
क्यों मेरी जिन्द़गी से दूर हो गये हो तुम? हुस्न के रंगों से मगरूर हो गये हो तुम! भूला नहीं हूँ आज भी मैं कसमों... Read more
मुक्तक
मेरी जिन्दगी की तस्वीर बन गये हो तुम! मेरी मंजिलों की तकदीर बन गये हो तुम! तूफान चल रहे हैं यादों के शामों-सहर, दिल में... Read more
मुक्तक
राहे-वक्त में तुम बदलते जा रहे हो! तन्हा रास्तों पर तुम चलते जा रहे हो! दूर-दूर क्यों रहते हो जिन्दगी से तुम? बेखुदी की शक्ल... Read more