31.5k Members 51.8k Posts

* मुक्तक *

Jul 5, 2017 11:20 PM

अंत ही आरम्भ है नई शुरुआत का ।
चलते रहो बेख़ौफ़ डर किस बात का ।।
जीवन मिला है तो मौत भी निश्चित है ।
अंत से घबराकर भागना किस बात का ।।

4 Likes · 2 Comments · 656 Views
Neelam Ghanghas Ji
Neelam Ghanghas Ji
चंडीगढ़ हरियाणा
104 Posts · 65.8k Views
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी...
You may also like: