.
Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

July 5, 2017

तेरी मुलाकात मुझे याद आ रही है!
भीगी हुई रात मुझे याद आ रही है!
खोया हुआ हूँ फिर से यादों में तेरी,
शबनमी बरसात मुझे याद आ रही है!

मुक्तककार -#मिथिलेश_राय

Author
MITHILESH RAI
Recommended Posts
मुक्तक
आरजू तेरी बुला रही है मुझे! याद भी तुमसे मिला रही है मुझे! किसतरह मैं रोकूँ दिल की तड़प को? आग चाहत की जला रही... Read more
ठंडे -ठंडे मौसम में तेरी याद आ रही है .....
ठंडे-ठंडे मौसम में तेरी याद आ रही है जैसे कोहरे के बाद हल्की धुप आ रही है तन्ह रात काट ली है तुम्हारी याद के... Read more
मुक्तक
आज फिर मौसम में नमी सी आ रही है! जिन्दगी में तेरी कमी सी आ रही है! आ गया है रूबरू कारवाँ ख्यालों का, यादों... Read more
बरगला   ये   हवा  रही  है मुझे साथ  अपने  बहा  रही  है मुझे
बरगला ये हवा रही है मुझे साथ अपने बहा रही है मुझे ---------------------------------------------- ग़ज़ल क़ाफ़िया- आ, रदीफ़- रही है मुझे वज़्न-2122 1212 22/112 अरक़ान-फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन... Read more