23.7k Members 49.8k Posts

मुक्तक

हर शक्स जमाने में गुमनाम जैसा है!
दर्द और तन्हाई की शाम जैसा है!
जलता हुआ सफर है राहे-मंजिलों का,
जिन्दगी को ढूँढता पैगाम जैसा है!

मुक्तककार – #मिथिलेश_राय

Like Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
MITHILESH RAI
MITHILESH RAI
वाराणसी
502 Posts · 4.5k Views
Books: आगमन संदल सुगंध जीवंत हस्ताक्षर #मिथिलेश_राय_की_मुक्तक_रचनाऐं सफ़रनामा मधुबन(काव्य संग्रह) मधुशाला(काव्य संग्रह) अनुभूति (काव्य संग्रह)...