Jun 24, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

जोड़-तोड़

जोड़-तोड़, कर जुगाड़, संवार बिगाड़ यही संसार
शैशव में शिशु भी करता यही , सीखने का आधार।
घटा-गुणा के चक्कर में पड़ी है देखो दुनिया सारी
जप तू राम-नाम सरस, ले अपना जीवन भी’ संवार।

17 Views
Copy link to share
Sharda Madra
Sharda Madra
56 Posts · 1.3k Views
poet and story writer View full profile
You may also like: