Skip to content

मुक्तक

Dr.rajni Agrawal

Dr.rajni Agrawal

मुक्तक

June 17, 2017

मुक्तक

(१)अधरों पर मुस्कान खिली जब
आँगन देखी फुलवारी।
उन्मादित नयना हर्षाए
द्वार हँसी जब किलकारी।।

(२)ढह गए प्यार के सपने बिछे जब शूल राहों में
जली अरमान की बस्ती रहे ना फूल बाहों में।
मरुस्थल बन गया जीवन सुलगती रेत छाई है
कहाँ जाऊँ बतादे तू रुदन दिल में समाई है।।

डॉ. रजनी अग्रवाल “वाग्देवी रत्ना”
संपादिका-साहित्य धरोहर
महमूरगंज, वाराणसी (मो.-9839664017)

Share this:
Author
Dr.rajni Agrawal
 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका। उपलब्धियाँ- राज्य स्तर पर ओम शिव पुरी द्वारा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, काव्य- मंच पर "ज्ञान भास्कार" सम्मान, "काव्य -रत्न" सम्मान", "काव्य मार्तंड" सम्मान, "पंच रत्न"... Read more
Recommended for you