Jun 24, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

पालनहार

मैं खड़ी यहां,तू छिपा कहाँ, ढूंढूं इत उत, पार करो नैया
पालनहार तारनहार कहाँ पतवार ओ जीवन के’ खवैया
कण कण में तुम कहाँ हुए ग़ुम वन पर्वत नदिया साँसों में तुम
इक बार दर्शन दो प्रभुवर चरण पखारूं औ लूँ मैं बलैयां।

18 Views
Copy link to share
Sharda Madra
56 Posts · 2.1k Views
poet and story writer View full profile
You may also like: