तोल-मोल

तोल-मोल के बोल ये दुनिया गोल-मोल
हंसी उड़ाये पल में देगी पोल खोल
शब्दों पर अंकुश हो संशय हो न कोई
वाणी वचनामृत में सुधारस घोल-घोल

Like Comment 0
Views 26

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share