Jun 16, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

प्रेम धार

निराशा न घेरे कभी बार-बार
दिलासा सभी को सभी को दुलार
नमी हो दिलों में बहे ज्ञान गंग
न शिकवे गिले हों बहे प्रेम धार।

16 Views
Copy link to share
Sharda Madra
56 Posts · 2.3k Views
poet and story writer View full profile
You may also like: