Apr 29, 2017 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

मुक्तक

तेरा ख्याल जब भी बार-बार आता है!
दिल में बेचैनी का किरदार आता है!
बेताब नजर से लिपट जाती हैं यादें,
तेरी गुफ्तगूं का इंतजार आता है!

#महादेव_की_कविताऐं’ (23)

139 Views
MITHILESH RAI
MITHILESH RAI
502 Posts · 4.8k Views
Follow 2 Followers
Books: आगमन संदल सुगंध जीवंत हस्ताक्षर #मिथिलेश_राय_की_मुक्तक_रचनाऐं सफ़रनामा मधुबन(काव्य संग्रह) मधुशाला(काव्य संग्रह) अनुभूति (काव्य संग्रह)... View full profile
You may also like: