उपवन

प्रकृति रचित, मानव सिंचित, श्रमिक का श्रमदान
अधिक सुहावन, मन लुभावन, पावन उद्यान
ओस बिन्दु, तितलियाँ भँवरें, सुगन्धित स्थान
नयनाभिराम, रोमांच तन, कुसमित मुस्कान।

2 Views
poet and story writer
You may also like: