Jun 16, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

खट्टे-मीठे

खट्टे-मीठे अनुभवों को आत्मसात रख
कुछ कडुवा भी मिले यदि मैले न जज़्बात रख
दिल को न अंगार बना,संयम बहुत ज़रूरी
शांतिपूर्वक सामने आकर अपनी बात रख।

8 Views
Copy link to share
Sharda Madra
Sharda Madra
56 Posts · 1.4k Views
poet and story writer View full profile
You may also like: