.
Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

March 20, 2017

तुम मेरी जिन्दगी की तस्वीर हो!
तुम मेरी मंजिलों की तकदीर हो!
तेरी हर अदा है मेरे ख्याल में,
तुम मेरी चाहतों की जागीर हो!

मुक्तककार- #महादेव'(20)

Author
MITHILESH RAI
Recommended Posts
चाह
चाह है आज कुछ लिखूँ तुम पर पर क्या कविता ,छन्द या दोहा कविता से भी सरस तुम मुक्तक से स्वच्छन्द तुम चाह है कुछ... Read more
क्या लिखूँ
आज कुछ लिखूँ तुम पर पर क्या लिखूँ कविता ,छन्द या दोहा कविता से सरस तुम मुक्तक से स्वच्छन्द तुम पर मैं क्या लिखूँ तुम... Read more
तुम मेरी सखी हो
तुम मेरी सखी हो सखी हो या सनेही तुम जो भी हो मेरी छाया हो क्योंकि तुम मेरी सखी हो मेरे सोते जागते उठते बैठते... Read more
तुम ग़ज़ल शायरी //ग़ज़ल //
तुम सुबह शाम की ईबादत हो मेरी पहली,आखिरी मोहब्बत हो कोई नहीं जहां में यारा तुम सा सच में तुम इतनी खूबसूरत हो तुम्हें पाके... Read more