Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

March 14, 2017

तुम बार बार नजरों में आया न करो!
तुम बार बार मुझको तड़पाया न करो!
जिन्दा है अभी जख्म गमें-बेरुखी का,
तुम बार बार दर्द को बुलाया न करो!

मुक्तककार- #महादेव'(22)

Share this:
Author
MITHILESH RAI
#महादेव
Recommended for you