Jun 16, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

सूखा

ये जल विहीन धरा की लिपियाँ सूखे की निशानी
कुंभ सिर, हाथ धर चली पीताम्बरी, भरने पानी
तपती दोपहर, गर्मी का कहर , वृक्ष नदी न नहर
खोजे जल रसोई की रानी, ये जीवन कहानी।

13 Views
Copy link to share
Sharda Madra
56 Posts · 2.2k Views
poet and story writer View full profile
You may also like: