मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

विधाता छन्द
1222 1222, 1222 1222

*मुक्तक*

तुम्हारी याद में कोमल, तराने गीत लिखता हूँ।
ह्रदय से आज मैं अपने, पुरानी प्रीत लिखता हूँ।
हमारी लेखनी को जो, सहारा मिल गया तेरा,
प्रणय की हार को भी मैं, हमेशा जीत लिखता हूँ।

*अदम्य*

36 Views
Like
You may also like:
Loading...