*मुक्तक*

जन्मों जन्म साथ निभाने, संग जीने मरने की कसमें तो बहुत से लोग खाते हैं !
मग़र दुनियावी रश्मों को बदलने की हिम्मत कुछ विरले ही जुटा पाते हैं !!

3 Likes · 5 Comments · 306 Views
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी...
You may also like: