;ज़िन्दगी

ज़िन्दगी की खूबसूरत परिभाषा लिख
हर बात को बढ़ाकर न तू तमाशा लिख
मौज में रहकर बीते जीवन अनमोल
निराशा को त्याग नित नवीन आशा लिख।

Like Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share