मुक्तक

जब भी मैं शाँम की तन्हाइयों में चलता हूँ!
बेकरार पलों की खामोशियों में ढलता हूँ!
दर्द के पायदानों से गुजरती है जिन्दगी,
धीरे-धीरे हसरतों की आग में जलता हूँ!

#महादेव_की_कविताऐं’

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share