Skip to content

मुक्तक

MITHILESH RAI

MITHILESH RAI

मुक्तक

February 21, 2017

जब भी दर्दे-सितम की इन्तहाँ होती है!
बेकरार लम्हों की जुत्सजू रोती है!
यादें भी चुभती हैं पलकों में इसकदर,
जिन्द़गी अश्कों से खुद को भिगोती है!

#महादेव_की_कविताऐं'(23)

Share this:
Author
MITHILESH RAI
#महादेव
Recommended for you