31.5k Members 51.9k Posts

मुक्तक

Apr 15, 2020 09:54 PM

काफ़ी है… लहज़े की ही खूबसूरती
चेहरा खूबसूरत लेकर क्या करोगे

पेचीदा उम्र गुजरेगी जैसे जैसे
हसीन सुर्ख चेहरा सादा ही करोगे
~ सिद्धार्थ
घर से निकल कर तुम घर को ही गए होगे
साहेब के आग्रह में घर पर ही रह गए होगे.
😜
~ सिद्धार्थ

2 Likes · 6 Views
Mugdha shiddharth
Mugdha shiddharth
Bhilai
841 Posts · 12.1k Views
मुझे लिखना और पढ़ना बेहद पसंद है ; तो क्यूँ न कुछ अलग किया जाय......
You may also like: