मुक्तक

आज़ करना है वो बाद में कर
ये है कोरोनावायरस का असर
कुछ महीनों के लिए आलसी बन
दूर -दूर तक न आइए नज़र

नूरफातिमा खातून” नूरी”
१२/४/२०२०

3 Likes · 12 Views
नूरफातिमा खातून" नूरी" सहायक अध्यापिका प्राथमिक विद्यालय हाता-3 ब्लाक-तमकुही जिला-कुशीनगर उत्तर प्रदेश पिता का नाम-श्रीअख्तर...
You may also like: