मुक्तक

भूल मानवता रचे साजिश हँसे हैवानियत।
चाल चीनी चल गया अब कौन लेगा कैफ़ियत।
आज दहशत से भरा दिखता यहाँ इंसान है-
लाश के अंबार देखो रो रही इंसानियत।

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’

1 Like · 15 Views
 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका।...
You may also like: