मुक्तक

विरह अग्नि में जलता तन मन, भभक उठी चिन्गारी ।
आँखें बंद करूँ या खोलूँ, सूरत दिखे तुम्हारी।
भँवर याद में उलझी रहती,कैसे सहे जुदाई-
प्यार किया है मैंने तुम से, तू है जान हमारी।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Like 2 Comment 2
Views 38

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share