मुक्तक

छलका छलका एक समन्दर आँखों में,
टूटे ख्वाबों का हर मंज़र आँखों में।
बेगानेपन से घायल दिल को करता,
एक नुकीला चुभता खंज़र आँखों में।

दीपशिखा सागर-

6 Views
Poetry is my life
You may also like: