मुक्तक

फेर गया है चाँद हमारे सपनों पर आँखों का पानी
रूप सलोने, मदिर, मनोहर चेहरे ने की ये नादानी!

Like 1 Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share