मुक्तक

ये कैसी झाँकी है समाज के।
पूत कपूत है कितना आज के।
मात-पिता के इज्जत भूले हैं-
ये नंगा नाचते बिन लाज के।।
-लक्ष्मी सिंह

Like 1 Comment 0
Views 17

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share