मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

पत्थरों की सोहबत ने पत्थर का ही बुत बनाया मुझ को
बिछड़ के तुझ से रोया था, क्या पत्थरों ने बताया तुझ को !
…सिद्धार्थ
***
ख्वाबों के टूटने से हम नहीं टूटा करते
हम वो नहीं जिसे मुश्किलें लूटा करती !
…सिद्धार्थ
***
कोई क्यूँ दिल की आवाज़ सुन नहीं पाता,
वो रातें वो बातें मुझे अक्सर आवाज़ देतें हैं !
…सिद्धार्थ

1 Like · 25 Views
Like
841 Posts · 31.5k Views
You may also like:
Loading...