मुक्तक

मेरा दूसरा मुक्तक-

अन्याय हँसे खुलकर, ये न्याय अदालत है,
निर्दोष सज़ा पाते, खूनी को’ रियायत है।
धृतराष्ट्र बने बैठे, संसद के’ सभी आका,
बस चोर डकैतों की , बेशर्म सियासत है।

दीपशिखा सागर-

15 Views
Poetry is my life
You may also like: