मुक्तक

मेरा दूसरा मुक्तक-

अन्याय हँसे खुलकर, ये न्याय अदालत है,
निर्दोष सज़ा पाते, खूनी को’ रियायत है।
धृतराष्ट्र बने बैठे, संसद के’ सभी आका,
बस चोर डकैतों की , बेशर्म सियासत है।

दीपशिखा सागर-

Like Comment 0
Views 13

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share