मुक्तक

मुक्तक

निर्धन को सहयोग दें,मिटे मान-अभिमान।
झोली भर लो प्रेम से,बढ़ जाएगी शान।।
मिल जाए संतोष धन,दें निर्धन का साथ।
जीवन उनका खिल उठे ,नभ में भरें उड़ान।।
…डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर।

31 Views
मैं मूलत:एक शिक्षिका हूँ।लेखिका ,संपादिका ,समीक्षक भूमिका निभाकर साहित्य सृजन की ओर अग्रसर हूँ मेरी...
You may also like: