मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

” कब-कब इन आँखों से बरसी आँसू की बरसात न पूछो
जीती बाज़ी किस मौके़ पर हुई किस तरह मात न पूछो
बलिदानों की बुनियादों पर आज़ादी का भवन खड़ा है
अमर शहीद हुए हैं कितने ज्ञात और अज्ञात न पूछो ”
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

28 Views
Like
510 Posts · 16.3k Views
You may also like:
Loading...