मुक्तक

आतंकी गद्दारों के सीने में गोली भर डालो।
संयम टूटा गुस्से का शत्रु का शीश चिता पर डालो।
सैनिक की कीमत क्या होती इनको जाकर बतलाओ –
यदि सीने में ज्वाला भरा तो सर्वनाश अब कर डालो।
-लक्ष्मी सिंह

Like Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing