मुक्तक

केशरिया वस्त्र पहन, मानो कोई संत आ गया।
सकुचाई शकुन्तला, उपवन में दुष्यंत आ गया।
मनहारी सकल सृष्टि, मादक सुगंध चहुँ दिश बिखरे –
सुप्त सपने सजाने, देखो वसंत आ गया।
-लक्ष्मी सिंह

Like Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing