मुक्तक

काश मेरा एक भाई होता ,
दिल में उसके सच्चाई होता ,
मेरे दिल के हर इक जख्मों का,
उसका हर बोल दवाई होता।

-वेधा सिंह

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing